मनुष्य अपने बच्चों में मृत्यु उपरांत भी जिंदा रहते हैं – स्टीफन हॉकिंग

पने अंतिम किताब में प्रसिद्ध सैद्धांतिक वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग  द्वारा लिखी गई "सबसे ज्यादा उत्तेजक उद्धरण" काफी दिलचस्प है। अंग्रेजी पाठ के हिंदी अर्थ का संभावित अनुवाद नीचे दिया गया है। आप पढ़ें और ईश्वर, जीवन, ब्रह्मांड आदि पर अपनी समझ को समृद्ध बनायें अथवा कम से कम एक नई दृष्टि से सोचें।


जब भगवान और मृत्यु के बाद का जीवन के बारे में प्रश्नों की बात आती है, तो हॉकिंग अपने जवाब में सीधा स्पष्ट हैं। उनका कहना है कि सबसे सरल व्याख्या यह है कि भगवान अस्तित्व में नहीं है और बाद के जीवन के लिए कोई भरोसेमंद सबूत नहीं है, सिवाय इसके कि लोग अपने प्रभाव और जीन के माध्यम से जीवित रह सकते हैं।

"मेरा विश्वास क्या है?" वह लिखते हैं। "हम जो भी चाहते हैं उसमें विश्वास करने के लिए स्वतंत्र हैं, और यह मेरा विचार है कि कोई भगवान नहीं है। किसी ने भी ब्रह्मांड को नहीं बनाया और कोई भी हमारे भाग्य को निर्देशित नहीं करता है।"

इस अहसास से हॉकिंग ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि मृत्यु के बाद जीवन  में विश्वास सिर्फ "इच्छापूर्ण सोच" है और "जब हम मर जाते हैं, हम धूल पर लौट जाते हैं।" हाँ, हॉकिंग थोड़ा विचित्र हैं। लेकिन वे कहते हैं और सुझाव देते हैं कि मनुष्य अपने  (जीवन के) कार्य प्रभाव और अपने बच्चों में मृत्यु उपरांत भी  जिंदा रहते हैं।
– नेह इन्द्वार

2 comments: